PRANAV BHARDWAJ
Motivational Speaker / Writer

दोस्तो, मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं कुछ ऐसा करूँ, जिससे देश/समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (Creative & Positive change) आ सके। मैंने अपनी इसी सोच के तहत परम पिता परमेश्वर के आशीर्वाद से यह website बनायी है.......

Read More....

Like Us On Face Book Page
maalik
Artical HindiLifePersonality DevelopmentPower Of ThinkingSelf ImprovmentSuccess Tipsअमीर कैसे बने

आप क्या बनना चाहते हैं : मालिक या नौकर ???

By on February 5th, 2017

 

आप क्या बनना चाहते हैं ?

मालिक या नौकर ?

 

दोस्तो,

     एक शहर में किरोड़ीमल नामक, एक सेठ जी रहते थे ! सेठ जी का नाम, शहर की मशहूर हस्तियों में शुमार किया जाता था ! सेठ जी तीन Company के मालिक थे ! उनकी सभी Company बहुत अच्छा Business कर रहीं थी ! इस सबसे सेठ जी बहुत खुश रहते थे !

     सेठ जी हर रोज थोड़े-थोड़े समय के लिए अपनी तीनों Company पर जाते थे, ताकि सब कुछ अच्छे से चलता रहे ! सभी Company एक दूसरे से कुछ km. के फासले पर थीं, अतः सभी company में जाने के लिए सेठ जी एक कार का प्रयोग करते थे ! सेठ जी जमीन से जुड़े व्यक्ति थे और दिखावे की दुनिया से दूर रहते थे, इसलिए वो खुद ही अपनी कार Drive करते थे !

     एक बार, उनके किसी मित्र ने उन्हें सलाह दी कि : आप इतने बड़े सेठ हैं, आपका इतना बड़ा व्यापार है, क्या आपको खुद कार चलाना शोभा देता है ? क्यूँ न आप, अपने लिए एक ड्राईवर रख लो ! इससे न सिर्फ समाज में आपका रुतवा बढेगा, बल्कि आप अपना बहुत कीमती समय भी बचा सकते हो !

     जितना समय आप, अपनी कार चलाने में देते हो, उस समय का आप और बेहतर प्रयोग अपनी Company के लिए कर सकते हो ! किरोड़ीमल जी को यह विचार बहुत पसंद आया ! उन्होंने अखबार में इश्तेहार (Advertisement) निकलवाया ! बहुत लोगों ने आवेदन किया ! किरोड़ीमल जी ने, उनमें से एक ड्राईवर का चुनाव किया और उसको काम पर रख लिया !

     सेठ जी बहुत खुश थे ! अब वो आराम से अपनी कार में बैठते और शान से अपनी Company में जाते ! Driver ने, अपने अच्छे काम से किरोड़ीमल जी का विश्वास हासिल कर लिया ! वो सेठ जी की तो सेवा करता ही था, इसके साथ-साथ घर के बहुत सारे काम ( बाज़ार से सब्जी लाना, बच्चे को स्कूल पहुँचाना, मालकिन को Beauty Parlour ले जाना etc ) भी कर देता था ! जल्दी ही उसने परिवार में अपनी ख़ास जगह बना ली !

     धीरे-धीरे समय बीतने लगा ! Driver को यह विश्वास हो गया कि, सेठ जी उस पर पूरी तरह से निर्भर हो गये हैं ! अब वो चाहें भी तो, उसे नौकरी से नहीं निकाल सकते ! इसका वो गलत फायदा उठाने लगा ! अब वो लापरवाह होने लगा ! वो सुबह अपने काम पर, समय से नहीं पहुँचता था और गाडी का भी ठीक से रख-रखाव नहीं करता था ! उसकी लापरवाही की वजह से, सेठ जी भी सही समय पर अपनी कंपनी नहीं पहुँच पाते थे ! एक बार तो हद ही हो गयी ! सेठ जी को बहुत जरूरी Meeting के लिए कहीं जाना था और ड्राईवर की लेट-लतीफी की वजह से वो Meeting में नहीं पंहुच पाए ! उनका बहुत नुक्सान हो गया !

     Driver की मनमानी / लापरवाही से तंग आकर सेठ जी ने सोचा कि : अब बहुत हो गया, कल से मैं इसे नौकरी से निकाल दुंगा ! लेकिन अगले पल वो सोचने लगे कि  यदि मैंने इसे निकाल दिया तो …..

  • मेरे घर का काम कौन करेगा ???
  • क्या पता, नया ड्राईवर कैसा निकलेगा ???
  • अगर नया ड्राईवर सही न हुआ तो ???
  • इसने इतने दिन सेवा की है, क्या इसे नौकरी से निकालना उचित रहेगा ???

     सेठ जी बहुत परेशान रहने लगे ! उनको उस ड्राईवर की वजह से बहुत परेशानी हो रही थी, लेकिन वो चाह कर भी उसे नौकरी से नहीं निकाल पा रहे थे !

कभी-कभी सेठ जी को ऐसा लगता था जैसे वो नौकर हैं और ड्राईवर उनका मालिक !!!

दोस्तो,

  • अब आप कहोगे : क्या SIR, ऐसा भी कहीं होता है क्या ???
  • कोई मालिक इतना कमजोर कैसे हो सकता है, कि वो नौकर की मनमानी सहता रहे ?
  • इसमें क्या बड़ी बात है ? मालिक जब चाहे तब नौकर को निकाल दे !

     लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि, आज के समय में ऐसे मालिकों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है जो लाख मुश्किलों और नुक्सान उठाने के वावजूद भी, अपने नौकर की मनमानी सहते रहते हैं और चाह कर भी अपने नौकर को नहीं निकाल सकते या उस पर अंकुश नहीं लगा सकते !

कैसे ???

आइये ! इसे समझने की कोशिश करते हैं !

दोस्तो,

     आज दुनिया बहुत तेजी से बदल रही है ! Cashless system के इस जमाने में हर चीज online होती जा रही है ! Smart Phone आज, वक़्त की जरूरत बन गया है ! आज हम Smart Phone इसलिए खरीदते हैं, ताकि हम Technology वाली इस दुनिया में स्वयं को आगे रख सकें और internet की मदद से स्वयं को update रख सकें ! लेकिन हम लोग उस फ़ोन का प्रयोग…..

  • facebook, whats up, social media etc पर chatting के लिए करते हैं !
  • आज हम अपना ज्यादातर समय social media पर यूँ ही बर्बाद कर देते हैं !
  • इसका ऐसा नशा होता है कि हम अपनी सुध-बुध ही हो देते हैं (खाना खाते समय, रास्ते में चलते समय, हर समय हम इसी में ही खोये रहते हैं)
  • यहाँ तक कि रात में जब सब लोग सो जाते हैं, हम तब भी अपनी रजाई के अन्दर अपने Friend से chat कर रहे होते हैं !
  • ऐसा ही TV के साथ भी होता है, एक बार जब आप  TV के सामने बैठ गये तो समय का पता ही नहीं चलता और हमारा बहुत बहुमूल्य समय ऐसे ही बर्बाद हो जाता है !
  • तरह – तरह की applications, internet games, websites जितना चाहें उतनी देर आपको अपने साथ व्यस्त रखते हैं 
  • और Selfie का जो craze : उसके बारे में तो बात ही क्या की जाए ???

दोस्तो,

      Mobile, TV, Laptop, कंप्यूटर, Internet connection या और भी अन्य साधन : यह सभी हमारी सुविधा के लिए हैं ! इन सभी को हमने अपने लिए खरीदा है, ताकि हम अपना ज्यादा से ज्यादा समय बचा सकें और अपनी life को पहले से अधिक आसान, सरल और सुगम बना सकें !

     हम इन उपकरणों के मालिक हैं और यह सभी हमारे नौकर / सहायक ! यह सभी पूरी तरह से हमारे ऊपर निर्भर हैं ! यह सभी उपकरण हमारे पैसों से सांस लेते हैं, अगर हम इन्हें Recharge न कराएँ तो इनका कोई वजूद नहीं : लेकिन ऐसा क्या होता है कि ये नौकर आपके सर पर चढ़कर मौज करते हैं ??? ये जितना चाहें, उतना आपका समय बर्बाद कर देते हैं और आप चुपचाप यह सब सहते रहते हैं !

     आप अच्छी तरह से जानते हो कि देर रात तक internet का प्रयोग / TV देखना / Mobile chatting : आपकी सेहत पर बुरा असर डालता है ( आपकी आँखें कमजोर हो जाती हैं / नींद पूरी न हो पाने की वजह से आपको बहुत मुश्किल होती है )

     social media का जरूरत से ज्यादा प्रयोग, आपका बहुत कीमती समय यूँ ही बर्बाद कर देता है, लेकिन फिर भी आप इस नौकर को हद में नहीं रख पाते ??? और यह पूरी तरह से आप पर हावी हो जाते हैं !!!

     आप हर बार यह सोचते हो कि इस बार तो बहुत समय बर्बाद हो गया, next टाइम में जब जरूरी होगा तभी whts up / facebook / social media / TV का प्रयोग करूँगा !

लेकिन अगली बार भी ! ऐसे ही समय बर्बाद हो जाता है !

दोस्तो,

क्या हुआ ?

क्यूँ आपका नौकर (social media / TV ) अपनी मनमानी कर रहा है, और आप उसको मनमानी करने दे रहे हैं ???

आखिर क्यूँ ???

     है न कमाल की बात कि आपका नौकर : लगातार आपका नुक्सान कर रहा है, उसकी वजह से आपको काफी परेशानी भी हो रही है लेकिन आप चाह कर भी उसे बाहर नहीं निकाल पा रहे ! आप लगातार उसे salary (recharge) कराते जा रहे हैं !

दोस्तो,

     ये mobile / Internet / tv या और भी अन्य साधन हमारी जरूरतों को आसान बनाने के लिए हैं ! हम चाहें तो इनका सदुपयोग करके अपने जीवन में इनका उचित इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन इसके विपरीत यदि हम इसका दुरूपयोग करेंगे तो हमारे लिए बहुत मुश्किल होगी !

     अब यह पूरी तरह आप पर निर्भर है कि, आप इसका किस तरह इस्तेमाल करते हो ?

     तो उठिए ! और स्वयं को यह अहसाह कराइए कि (Mobile / TV / Internet etc) मेरे पैसों से चलते हैं ! मैं किसी भी कीमत पर अपना कीमती समय बर्बाद नहीं होने दुंगा ! मैं ही असली मालिक हूँ : और ये सभी मेरे नौकर / सहायक !

इन सभी ने मेरा बहुत समय बर्बाद कर दिया, खूब मनमानी कर ली पर अब से इनको अपनी हद में रहना होगा ! आज से मैं इनका सदुपयोग करूँगा : और अपना कीमती समय अपने जीवन को अच्छा और कामयाब बनाने में लगाऊंगा !

दोस्तो,

     अभी कुछ दिनों बाद हमारे युवा साथियों के Board exam शुरू होने वाले हैं ! तो आपके लिए यह बहुत जरूरी हो जाता है कि, आप इन सभी को एक side रखकर अपने कीमती समय का पूरा सदुपयोग करें और EXAM में अच्छा RESULT हासिल करें !

 

तो जागिये ! स्वयं को एक शशक्त और जागरूक मालिक बनाइये न कि कमजोर और असहाय मालिक !

 

आपकी सफलता का आकांक्षी

आपका अपना साथी 

प्रणव कुमार 


खुला आमंत्रण


 

दोस्तो,
       यदि, आपके पास Hindi/English या Hinglish में कोई  Motivational Story, Article, कविता, Idea, Essay, Real life experience या कोई जानकारी  या  कुछ  भी ऐसा जिसे पढ़कर कुछ अच्छी सीख मिले ( चाहें वो आपके अपने मन से वयक्त किये गए हों या आपने कहीं पढ़े हों )…………..

      जिसे आप हमसे share करना चाहते हैं ।

      तो, आप अपना कंटेंट (content) मुझे  info@motivatemyindia.com  पर mail कर सकते हैं  आपसे अनुरोध है कि (content) के साथ अपना एक फोटो भी भेजें।

      पसंद आने पर आपका कंटेंट जल्दी ही आपकी फोटो के साथ पर आपकी अपनी website www.motivatemyindia.com प्रकाशित कर दिया जाएगा ।

धन्यवाद !!!

 

TAGS
RELATED POSTS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked