PRANAV BHARDWAJ
Motivational Speaker / Writer

दोस्तो, मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं कुछ ऐसा करूँ, जिससे देश/समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (Creative & Positive change) आ सके। मैंने अपनी इसी सोच के तहत परम पिता परमेश्वर के आशीर्वाद से यह website बनायी है.......

Read More....

man ki duvidha
QuotesSelf Improvment

मन की दुविधा और उसका समाधान

By on January 29th, 2017

 

मन की दुविधा व उसका समाधान 

 

दोस्तो,

      जैसे ही आप, अपने लक्ष्य (Aim) की तरफ अपने कदम बढ़ाने की कोशिश करते हो, बहुत सारे सवाल, बहुत सारी उलझनें (Confusion) : आपके सामने आकर खड़ी हो जातीं हैं ! और आप इन सवालों / उलझनों में ऐसे उलझ जाते हो कि, आप चाह कर भी मन की इस दुविधा से बाहर नहीं निकल पाते !

      आपका उत्साह (Exitement) / आपका जोश (Energy) फीका पड़ जाता है, और आपको अपना लक्ष्य बहुत मुश्किल लगने लगता है ! जिसका परिणाम (Result) यह होता है कि आप कोशिश करने से पहले ही, हार जाते हो !

      लेकिन आपको जानकार ख़ुशी होगी कि आपके मन के सभी सवालों के जबाब, आपके मन में उठने वाली हर परेशानी / मुश्किल का जबाब : बहुत ही सरल और स्पष्ट शब्दों में, आज से बहुत समय पहले ही हमारे महापुरुषों द्वारा बतलाया जा चुका है !

जरूरत है, तो केवल उन महान विचारों (Gret Thoughts) को : अपने जीवन में अपनाने की !

      तो आइये ! महापुरुषों द्वारा दिखाई गयी इस राह को अपने जीवन में अपनाएँ और एक सफल जीवन की तरफ, पूरी मजबूती के साथ अपने कदम बढ़ाएं…..

 

आपके मन में उठने वाले सवाल और उनके जबाब :—

  • पता नहीं, मुझे सफलता मिलेगी भी कि नहीं ??? —- यदि आप सफलता  (Success) चाहते हैं, तो इसे अपना लक्ष्य  न बनाएं, आप सिर्फ वह कीजिए जो करना आपको अच्छा लगता है ! और जिसमें आपको विश्वास है तब स्वयं, ही आपको सफलता मिल जाएगी !        (डेविड फ्रोस्ट)
  • लक्ष्य बहुत मुश्किल है, कैसे पूरा कर पाऊंगा ??? —-  हज़ार मीलों लम्बी यात्रा भी केवल एक कदम से ही शुरू होती है !  (Confucius)
  • क्या मैं इतना समर्थ (capable) हूँ, कि इस काम को कर सकता हूँ ??? —- कुछ करने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति के लिए इस दुनिया में कुछ भी असंभव (impossible) नहीं है !       (अब्राहम लिंकन)
  • इस काम को करने में तो बहुत Risk है ??? —- सबसे बड़ा जोखिम कोई Risk न लेना है ! इस दुनिया में जो सचमुच इतनी तेजी से बदल रही है, केवल एक रणनीति जिसका Fail होना तय है : वह है जोखिम न लेना !     { मार्क जुकरबर्ग }
  • यदि मैं इस काम में असफल हो गया तो ??? —-  सफलता पाने के लिए, आपके अन्दर सफलता की इच्छा, असफलता के भय से अधिक होनी चाहिए !       ( बिल कासबी )
  • इस काम के लिए तो बहुत पैसा चाहिए, इतना पैसा (money) कहाँ से आएगा : क्या मैं इतना पैसा कमा पाऊंगा ??? — अरे मिलेगा भाई, इतना मिलेगा जितना आप सपने में भी नहीं सोच सकते, खिलाडी तो बनो, अपने Field के पक्के खिलाडी !    {संदीप माहेश्वरी}
  • मेरा तो कोई, बहुत बड़ा दोस्त भी नहीं है, जो मुझे अच्छी सलाह दे सके और मेरी मदद कर सके !!! —- यदि जीवन में आप ऐसे दोस्त चाहते हो जो आपको कभी धोखा न दें, आपको हमेशा अच्छी सलाह दें और जब भी आपको जरूरत हो तो वो तुरंत आपकी मदद करें तो किताबों से दोस्ती (friendship) करो !      { अज्ञात }
  • मेरे लिए इस काम को पूरा करना बहुत मुश्किल है ! चलो कुछ और करते हैं ! —- जब आप किसी काम की शुरुआत करें, तो असफलता से न डरें और उस काम को बीच में न छोड़ें ! जो लोग ईमानदारी से काम करते हैं वह सबसे ज्यादा प्रसन्न रहते हैं !         { आचार्य चाणक्य }
  • अभी परिस्थितियां मेरे अनुकूल नहीं है, जब उचित समय आएगा तब कर लेंगे !
  • अभी मेरे पास पर्याप्त Resources नहीं हैं !!!  —- इंतज़ार मत कीजिए “सही समय” (right time) कभी नहीं आता ! जहाँ खड़े हैं, वहीँ से शुरुआत कर दीजिए और जो भी उपकरण आपके पास हैं, उनका प्रयोग कीजिए और जैसे-जैसे आप आगे बढ़ेंगे, आपको और अधिक अच्छे उपकरण मिलते जाएँगे !        ( जोर्ज हर्बर्ट )
  • लोग क्या कहेंगे ??? —- एक सफल व्यक्ति (success full person)  वह है, जो औरों द्वारा अपने ऊपर फेंके गये ईंटों, से एक मजबूत नींव का निर्माण कर सके !     ( अज्ञात )
  • मेरे परिवार में किसी ने, अभी तक इतना बड़ा काम नहीं किया, तो मैं कैसे कर सकता हूँ ? —- आपके जीने की वजह / आपका लक्ष्य बहुत बड़ा होना चाहिए, अगर वह बड़ा है, तो वो अपने आप ही आपसे बड़े-बड़े काम करवाते चली जाएगी !   (संदीप माहेश्वरी )
  • काम शुरू कर तो दें, पर यदि बीच में कोई परेशानी आई तो ??? —- विपरीत परिस्थितियों में कुछ लोग टूट जाते हैं, तो कुछ लोग रिकॉर्ड (record) तोड़ देते हैं !         { शिव खेड़ा }
  • मैं अकेला, कैसे इतने बड़े लक्ष्य को पा सकता हूँ ??? — आप जैसा विचार करेंगे, वैसे ही आप हो जाएँगे ! यदि आप स्वयं को निर्बल मानेंगे तो आप निर्बल बन जाएँगे और यदि आप स्वयं को समर्थ मानेंगे तो आप समर्थ बन जाएँगे !                      { स्वामी विवेकानंद }
  • मैं पहले भी कई बार असफल हो चुका हूँ ! क्या इस बार ??? —- हम लोगों में से प्रत्येक व्यक्ति इस दुनिया में किसी ख़ास मकसद  के लिए आया है ! अतः पुरानी बातों को भूल जाइये और अपने भविष्य के निर्माता बनिए !                            { रोबिन शर्मा }
  • मेरी किस्मत ने धोखा दे दिया तो ??? —- एक बार जब आप नकारात्मक (negative thoughts) विचारों को सकारात्मक विचारों ( positive thoughts) से बदल देंगे तो आपको अच्छे नतीजे मिलना शुरू हो जाएँगे !           { विल्ली }
  • मुझे इस काम की कोई विशेष जानकारी नहीं ! मैं इस काम में बिलकुल नया हूँ ! मैं कैसे सब कुछ manage कर पाउँगा ??? — किसी भी डिग्री (degree) का न होना दरअसल फायदेमंद है ! अगर आप इंजिनियर हैं या डॉक्टर हैं, तो आप एक ही काम कर सकते हो : लेकिन यदि आपके पास कोई डिग्री नहीं, तो आप कोई भी कार्य कर सकते हैं !         { शिव खेड़ा }
  • मेरे इस काम में, क्या सभी लोगों की मदद मिल पायेगी ??? क्या सभी लोग मेरे इस फैसले (Decision) से खुश होंगे ??? —- मुझे सफलता का मंत्र तो नहीं पता ! लेकिन सभी को खुश करने का प्रयास करना ही असफलता का मूल मंत्र है !                     ( बिल कासबी )
  • क्या परमात्मा, मेरी मदद करेंगे ??? — भगवान् उसकी मदद करता है, जो खुद अपनी मदद करता है !             {बेंजामिन फ्रेंक्लिन}
  • नहीं ! भाई ये मुझसे न हो पायेगा ???  — लगातार प्रयत्न (regular effort) करने वाले लोगों की गोद में सफलता स्वयं आकर बैठ जाती है ! {भैरवी}

 

सफलता (Success) का मूल मंत्र :—

 

           एक विचार लो ! उस विचार को अपना लक्ष्य बना लो ! उसके बारे में सोचो, उसके सपने देखो, उस विचार को जिओ ! अपने दिमाग, मासपेशियों, नसों, औए शरीर के हर हिस्से को उस विचार में डूब जाने दो तथा वाकी सभी विचारों को किनारे रख दो ! यही सफल होने का तरीका है !         { स्वामी विवेकानंद }

(दोस्तों, यह सफलता का मूल मंत्र है, यदि आप पूरी ईमानदारी से इसको अपने जीवन में अपनाओगे, तो आपकी सफलता सुनिश्चित है )

 

आपके सफल, सुखद और खुश-हल जीवन का आकांक्षी…..

आपका अपना मित्र

प्रणव भारद्वाज

 


खुला आमंत्रण


 

दोस्तो,
       यदि, आपके पास Hindi/English या Hinglish में कोई  Motivational Story, Article, कविता, Idea, Essay, Real life experience या कोई जानकारी  या  कुछ  भी ऐसा जिसे पढ़कर कुछ अच्छी सीख मिले ( चाहें वो आपके अपने मन से वयक्त किये गए हों या आपने कहीं पढ़े हों )…………..

      जिसे आप हमसे share करना चाहते हैं ।

      तो, आप अपना कंटेंट (content) मुझे  info@motivatemyindia.com  पर mail कर सकते हैं  आपसे अनुरोध है कि (content) के साथ अपना एक फोटो भी भेजें।

      पसंद आने पर आपका कंटेंट जल्दी ही आपकी फोटो के साथ पर आपकी अपनी website www.motivatemyindia.com प्रकाशित कर दिया जाएगा ।

धन्यवाद !!!

 

 

 

TAGS
RELATED POSTS

1 Comment on मन की दुविधा और उसका समाधान

Pravesh bhardwaj said : Guest Report 5 months ago

Khush rhna he life hi enjoy the life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked