PRANAV BHARDWAJ
Motivational Speaker / Writer

दोस्तो, मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं कुछ ऐसा करूँ, जिससे देश/समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (Creative & Positive change) आ सके। मैंने अपनी इसी सोच के तहत परम पिता परमेश्वर के आशीर्वाद से यह website बनायी है.......

Read More....

Like Us On Face Book Page
namumkin
Inspirational StoryPower Of ThinkingReal Life HeroSomething Special

नामुमकिन : कुछ भी, तो नहीं

By on August 24th, 2016

 

नामुमकिन : कुछ भी, तो नहीं

 

     असंभव : कुछ भी नहीं है !

     अगर मन में कुछ करने का इरादा हो, तो आप कुछ भी कर / पा सकते हो !

     Impossible : नाम का कोई भी शब्द (word) इस दुनिया में नहीं होता !

 

दोस्तो,

     मुझे पूरी उम्मीद है कि, आपने यह पंक्तियाँ (Lines) आज से पहले भी, काफी बार सुनी / पढ़ी होंगी ! लेकिन आज मैं आपको, एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहा हूँ, जिनके जीवन-संघर्ष को देखकर / समझकर आप खुद ही, इस बात को कहेंगे कि…..

 

यदि यह हो सकता है —- तो वाकई में, कुछ भी हो सकता है !

 

     तो आइये, इस महान और शिक्षा-प्रद जीवन यात्रा को समझने की कोशिश करते हैं…….

जीवन – परिचय :—–

        इस चमत्कारिक व्यक्तित्व का नाम है, Colonel Harland Sanders — जिनको दुनिया, KFC – के जनक के रूप में जानती है ! आज इनकी गिनती, दुनिया के अरबपति इंसान के रूप में में जाती है ! आज इनका Business 120 से ज्यादा देशों  में फैला हुआ है ! आज दुनिया में, KFC के 18000 से ज्यादा रेस्टोरेंट्स (Restaurants) हैं ! आपको जानकर हैरानी होगी कि, इनकी एक वर्ष की कमाई 20 अरब डॉलर से भी ज्यादा है !

दोस्तो, आज यह सब सुनने में जितना अच्छा लगता है, लेकिन यह सब कुछ इतना आसान नहीं था……

     Colonel Harland Sanders, का जन्म 9 sep. 1890 में, अमेरिका के Indiana नामक प्रान्त, में एक गरीब परिवार में हुआ था ! Sanders अपने चारों बहिन-भाइयों में सबसे बड़े थे ! इनके पिता एक गरीब किसान थे, और माँ  एक साधारण गृहणी ! Sanders का बचपन, बहुत कठिनाइयों में बीता !

     एक दिन Sanders के पिता, दोपहर में अपने घर आये, तो उनको बहुत तेज बुखार था ! बुखार इतना अधिक था, कि उनकी मृत्यु हो गयी ! Sanders तब मात्र 5 वर्ष के थे ! घर-खर्च चलाने के लिए उनकी माँ को एक टमाटर-चटनी बनाने वाली कंपनी में काम करना पड़ा ! माँ की अनुपस्थिति में, Sanders को अपने छोटे बहिन –भाइयों का पूरा ध्यान रखना पड़ता था !

     Sanders ने घर-खर्च के लिए, एक होटल में काम करना शुरू कर दिया ! इसी बीच उसकी माँ ने दूसरी शादी कर ली ! Sanders का सौतेला पिता स्वभाव का बहुत क्रूर व्यक्ति था ! वो अक्सर ही Sanders को बुरी तरह से पीटता था ! इसी से नाराज होकर, Sanders ने अपना घर छोड़ दिया !

जीवन – संघर्ष :—–

Colonel Harland Sanders, को बचपन से ही बहुत संघर्ष करने पड़े…….

  • जब वह 16 वर्ष के थे, तो आर्थिक परेशानियों के कारण उनको अपना स्कूल बीच में ही छोड़ना पड़ा !
  • इसके बाद उन्होंने कई नौकरी की, पर उनको सफलता नहीं मिली !
  • 18 वर्ष की उम्र तक उन्हें, 4 नौकरियों से निकाला जा चुका था !
  • 18 से 22 वर्ष की उम्र में, उन्होंने कंडक्टर की नौकरी की !
  • Army में गये, पर वहां से भी निकाल दिए गये !
  • Law स्कूल में दाखिला लेने गये – पर सफलता नहीं मिली !
  • लोगों के Insurance का काम किया पर – असफल हो गये !
  • Personal & Professional दोनों ही स्तर पर उनको — असफलता का सामना करना पड़ा !
  • 18 वर्ष की आयु में ही Sanders की शादी हो गयी ! Sanders के तीन बच्चे थे ! एक बेटा दो बेटी ! उनके बेटे की मौत, बहुत कम उम्र में ही हो गयी ! उसकी मुश्किलें यहीं कम नहीं हुईं ! अचानक ही उसकी नौकरी छूट गयी, जिसके कारण उसकी पत्नी भी उनको छोड़कर चली गयी ! और दोनों बच्चियों को भी अपने साथ, अपने मायके लेकर चली गयी !
  • पत्नी से इनके सम्बन्ध, इस हद तक खराब हो गये थे कि इनको अपनी बेटी से भी मिलने की इजाजत न थी !
  • अपनी खुद की बेटी से मिलने के लिए, Colonel Harland Sanders, ने उसके  अपहरण की कोशिश की – पर Fail !
  • बाद में, एक होटल में बाबर्ची का काम किया !  और वहां से 65 वर्ष की उम्र में वो Retired हो गये !
  • रिटायरमेंट पर उनको सरकार की तरफ से उन्हें $ 105 का चेक मिला !
  • एक बार जब, Colonel Harland Sanders अपनी जिंदगी के बारे में सोच रहे थे, तो उनको अपनी असफलताओं पर बहुत अफ़सोस हुआ ! और उन्होंने आत्म-हत्या (Suicide) करने का प्रयास किया  — पर वहां भी Fail !

उन्होंने सोचा कि, मेरे साथ जो होना था — वो हो चुका ! पर अब मैं कुछ ऐसा करूँगा, जिससे दुनिया में मेरी सफलता के किस्से पढ़े जाएंगे ! मैं सफलता की वो कहानी लिखूंगा — जो आज तक न किसी ने लिखी है और न ही कोई भविष्य में लिख पायेगा ! लेकिन, बड़ा सवाल था कि आखिर ऐसा क्या किया जाए ???

     मुश्किल यह थी कि, अब उम्र भी बहुत हो चुकी थी, पर Colonel Harland Sanders ने ठान लिया कि चाहे कुछ हो —– मुझे सफल होना है ! मैं असफल होकर मरना नहीं चाहता !

उन्होंने सोचा कि, मैंने जिंदगी का ज्यादातर समय बाबर्ची के काम और होटल में बिताया है ! और मुझे इसकी जानकारी भी है !

     Colonel Harland Sanders को chicken बनाना बहुत पसंद था और उनको अपने चिकन प्रयोग पर बहुत भरोसा था ! उन्होंने अपने रिटायरमेंट वाले चेक से $ 87 निकाले ! Colonel Harland Sanders, मसाले और प्रेसर कुकर लेकर, अपनी चिकन बनाने का प्रयोग की Marketing करने निकल पड़े । उन्होंने अलगअलग रेस्टोरेंट मालिकों से मिलना शुरू किया। समय ने फिर भी उनका साथ नहीं दिया, एकएक करके सभी रेस्टोरेंट मालिक उन्हें Reject करते गये।

लेकिन कर्नल सैंडर्स ने भी हार नहीं मानी ! वह लगातार अपने कार्य में लगे रहे, सीखते रहे और कोशिश करते रहे

     आपको यह सुनकर / जानकार हैरानी होगी कि वह 1009 बार Interview में असफल रहे और एक हजार नौ (1009) लोगो ने उनको रिजेक्ट कर दिया, तब जाकर उनको सफलता मिल ही गई । जी हाँ 1009 बार रिजेक्ट होने के बाद, उनको उनकी पहली हाँ मिली ।

लेकिन इसके बाद Colonel Harland Sanders, ने पीछे मुड कर नहीं देखा ! उनकी सफलता का कारवां बढ़ता गया और जल्दी ही उनकी गिनती दुनिया के अमीर लोगों में होने लगी ! 65 की उम्र, एक ऐसी उम्र जब लोग रिटायर हो जाते हैं, और अपनी जिंदगी को बेकार समझने लगते हैं —-  उस उम्र में उन्होंने अपने चिकन प्रयोग के साथ इतना बड़ा बिज़नेस empire खड़ा कर दिया ! आपको हैरानी होगी कि आज KFC का सालाना Turn-Over 20 अरब डॉलर से भी ज्यादा है !

दोस्तो,

     Colonel Harland Sanders, की यह जीवन-यात्रा —– क्या अपने-आप में किसी चमत्कार से कम है ???

उनके जैसा असफल और उनके जैसा सफल जीवन शायद ही कभी देखने / सुनने को मिलेगा ! उन्होंने अनेकों असफलताओं के बाबजूद सफलता की इतनी विराट और भव्य कहानी लिखी जो अपने आपमें बहुत कुछ कहती है !

दोस्तो,

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि………

  • हमारा आज तक का जीवन, कैसा बीता है ???
  • हमारी परिस्थितियाँ कैसी रही हैं ???
  • हमारी योग्यता क्या है ???

असली अंतर इस बात का है कि…….

  • हम अपना आज और आने वाला कल किस तरह जीना चाहते हैं ???
  • उसको लेकर हमारी सोच क्या है ???
  • और हमारी तैयारी किस तरह की है ???
  • जितनी बेहतर हमारी तैयारी होगी …………उतनी शानदार हमारी सफलता होगी

 

दोस्तो,

उठो, जागो और बदल डालो अपनी जिंदगी !

क्यूंकि Colonel Harland Sanders, की जीवन-यात्रा को देखकर यह आसानी से कहा जा सकता है कि………..

 

नामुमकिन : कुछ भी, तो नहीं

 

आपकी हर पल की खुशियों का आकांक्षी………..

आपका अपना मित्र 

प्रणव भारद्वाज 

 

Related Posts…..


खुला आमंत्रण


दोस्तो, 
        यदि, आपके पास Hindi/English या Hinglish में कोई  motivational story, article, कविता, idea, essay, real life experience या कोई जानकारी  या  कुछ  भी ऐसा जिसे पढ़कर कुछ अच्छी सीख मिले ( चाहें वो आपके अपने मन से वयक्त किये गए हों या आपने कहीं पढ़े हों ) ……………… 

        जिसे आप हमसे share करना चाहते हैं ।

        तो, आप अपना कंटेंट (content) मुझे  info@motivatemyindia.com  पर mail कर सकते हैं  आपसे अनुरोध है कि (content) के साथ अपना एक फोटो भी भेजें।

        पसंद आने पर आपका कंटेंट जल्दी ही आपकी फोटो के साथ पर आपकी अपनी website www.motivatemyindia.com प्रकाशित कर दिया जाएगा ।  

 

धन्यवाद!!!

TAGS
RELATED POSTS

2 Comments on नामुमकिन : कुछ भी, तो नहीं

ajay sharma said : Guest Report 12 months ago

very nice

Pooja said : Guest Report 12 months ago

Sir, Very inspirational story Hum yah kah sakte hain ki safalta ke liye koi der nahin hui h Jab jaago ---- tabhi savera

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked