PRANAV BHARDWAJ
Motivational Speaker / Writer

दोस्तो, मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं कुछ ऐसा करूँ, जिससे देश/समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (Creative & Positive change) आ सके। मैंने अपनी इसी सोच के तहत परम पिता परमेश्वर के आशीर्वाद से यह website बनायी है.......

Read More....

Like Us On Face Book Page
NEW PAISA
Life Changing ExperienceSelf ImprovmentSomething Special

पैसा…..  सब कुछ होता है क्या ???

By on May 25th, 2016

 

पैसा…..  सब कुछ होता है क्या ???

 

दोस्तो,

    आज मैं आपका सबसे बड़ा भ्रम दूर करने की कोशिश करूँगा । 

    आपने अक्सर ही लोगों से यह सुना होगा कि….

  • पैसे में बहुत बड़ी ताकत है !   
  • पैसा है — तो सब कुछ है ! 
  • पैसा — सबसे बड़ी चीज है !
  • पैसे से हम सब कुछ पा सकते है ! 
  • आज की दुनिया में पैसा ही तो, सब कुछ है !
  • और न जाने क्या – क्या ???  

    ऐसा लगता है कि — पैसा ही सब कुछ है !

    समाज में पैसे को इतना महिमा-मंडित किया गया है, कि इस दुनिया में पैसे से बढ़कर कुछ है ही नहीं ! आज कल तो ऐसा माहौल बनाया गया है, कि इंसान का वजूद उसके रिश्ते-नाते सब कुछ पैसे से ही तय होता है ! अगर हमारे पास पैसा नहीं है — तो मानो कुछ भी नहीं है !

    यह सब बातें इतनी बार बतायी गयी है कि — यह विश्वास हो जाता है कि  यदि हमारे पास पैसा नहीं तो हमारे जीने का कोई मतलब नहीं ! ऐसा कहा जाता है कि  —- पैसे के बिना/पैसे की कमी होने पर — हम चाहें भी तो कुछ नहीं पा सकते ! पैसे के अभाव में हम और हमारे जीवन का कोई अर्थ ही नहीं है !

    लेकिन क्या वाकई में यह सच है क्या ???

दोस्तो,

    आज मैं आपसे एक सच्ची घटना share करने जा रहा हूँ । जिससे आपका यह भ्रम पूरी तरह दूर हो जाएगा ।

    चन्दन (काल्पनिक नाम) नाम का एक व्यक्ति अपनी पत्नी ममता के साथ शहर में रहता था । चन्दन एक राशन की दुकान पर मुनीम (Accountant) का काम करता था । चन्दन ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं था, इसीलिए उसको बहुत कम वेतन मिलता था । चन्दन की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर थी । उसकी पत्नी ममता एक private स्कूल में पढ़ाती थी ।

    दोनों मिल-जुल कर बड़ी मुश्किल से गुजारा करते थे । सबसे बड़ी परेशानी यह थी कि एक तो वेतन बहुत कम मिलता था और उस पर भी समय पर नहीं मिलता था । कभी कभी तो वेतन 2 से 3 महीने बाद मिलता था । उनके पास अपना मकान भी नहीं था । और न ही कोई पारिवारिक सहयोग । वो किराये के मकान में जैसे तैसे अपना जीवन गुजार रहे थे । गरीबी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि आज से १० वर्ष पहले उन दोनों का कुल वेतन मात्र 2500 रुपये था ।

    भगवान् की कृपा से उनके दो बेटे थे, जो उनकी जीवन की सबसे बड़ी उम्मीद थे । दोनों ने यह तय किया कि, चाहे कितनी भी परेशानी क्यूँ न सहनी पड़े ! पर हम लोग इन बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा दिलवाएंगे और इनको कामयाब इंसान बनायेंगे । उन्होंने अपने दोनों बच्चों को सरकारी विद्यालय से शिक्षा दिलाई । उन्होंने अपने दोनों बच्चों को अच्छी शिक्षा के साथ-साथ अच्छे संस्कार भी दिए ।

    दोनों बच्चे पढने में बहुत अच्छे थे । समय बीतने लगा और बड़ा बेटा 12th में आ गया । उसने 12th की परीक्षा बहुत अच्छे नंबरों से पास की । पैसों की बहुत कमी थी, पर बच्चे को आगे पढ़ाना था । उनका सपना था की उनका बेटा बड़ा होकर एक अच्छा ENGINEER बने । इसी सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने कर्ज लिया और बड़े बेटे को Engineering की तैयारी के लिए अच्छी coaching के लिए भेज दिया । बेटे ने मन लगाकर मेहनत की । पर वो अपने पहले प्रयास में IIT प्रवेश परीक्षा पास नहीं कर पाया । दोनों को बहुत दुःख हुआ ।

   आस-पास के लोगों को जब यह पता चला तो उन्होंने भी खूब उपहास(हँसी) उड़ाया और ताना मारते हुए बोले “ आदमी को अपनी हैसियत के हिसाब से काम करना चाहिए । पैसा पास में नहीं, चले हैं बच्चे को IIT कराने” । लोगों की बात सुनकर बहुत दुःख होता था । पर मन में यह विश्वास था की  जल्दी ही सब परेसानी ख़त्म हो जाएंगी और उनका बेटा एक अच्छा इंजिनियर बनेगा ।

    उन्होंने थोडा कर्ज और लिया और बच्चे को फिर से अच्छी कोचिंग दिलाई । इस बार जीत उनकी हुई । बच्चे की मेहनत रंग लायी और बेटे को IIT DELHI में एडमिशन मिल गया । अब फीस की दिक्कत थी — वो भी जैसे –तैसे पूरी की, समय बीतने लगा और ४ वर्ष की कड़ी मेहनत के बाद उनका बेटा ENGINEER बन गया वो भी IIT – ENGINEER । उनका एक सपना पूरा हो गया था ।

    अब दूसरे बच्चे को पढ़ाना था, पर क़र्ज़ इतना ज्यादा हो गया था की कुछ भी नहीं सूझ रहा था । बेटा यह बात समझता था उसने कहा की अब मेरी नौकरी लग गयी है, और आज से भाई को पढ़ाने की पूरी जिम्मदारी मेरी है । उसने अपने भाई को पढने की आज़ादी दी । वो भी पढने में बहुत तेज था । उसने जम कर मेहनत की, और C.A (Chartered Accountant) की प्रतिष्ठित परीक्षा पास की ।

     आज के समय में उनका  बड़ा बेटा एक अच्छी कंपनी में 15 लाख के सालाना पैकेज पर और छोटा बेटा 8  लाख के सालाना पैकेज पर काम कर रहा है । तमाम परेशानियों के बाबजूद उन्होंने अपने सपने को पूरा किया । आज वो अपने बच्चों के साथ  एक सुखी, सम्पन्न और समृद्ध जीवन जी रहे है ।

    अपनी अच्छी सोच और जिद की बदौलत उन्होंने वो सफलता हासिल की जो अच्छे अच्छे पैसे वाले लोग चाहकर भी नहीं कर सकते । उन्होंने न सिर्फ इस बात को पूरी तरह से झुठला दिया कि पैसे की कमी हो, तो हम कुछ भी / कुछ अच्छा हासिल नहीं कर सकते बल्कि इस बात को भी पूरी तरह से सही साबित कर दिया कि यदि मन में विश्वास हो और हमारे सपनों में जान हो, तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है —— कुछ भी ।

दोस्तो,

    जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया था कि यह एक सच्ची जीवन-यात्रा है । इस जीवन यात्रा को आपसे SHARE करने का मेरा उद्देश्य यह है, कि आपके मन में भी यह विश्वास जगा सकूँ कि लोग / समाज/ परम्पराएँ/ मान्यताएं  क्या कहते हैं इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता ।

     असली फर्क इस बात से पड़ता है कि आप अपने बारे में क्या सोचते हैं? और आप अपने सपनों को पूरा करने के लिए क्या करते हैं ??? यदि आपके इरादे मजबूत हों और आपको अपने आप पर यकीन हो तो आप बड़े से बड़ा सपना साकार कर सकते हैं और ऐसा कुछ कर सकते हैं कि जो लोगों के लिए एक मिसाल बन जाए ।

दोस्तो,

 अधिकाँश लोग अपनी गरीबी के पीछे इस बात का तर्क देते हैं कि — हमारा तो जन्म ही गरीब परिवार में हुआ था । हम कैसे अमीर हो सकते हैं ??? लेकिन यहाँ यह समझना आवश्यक है कि अमीर परिवार में जन्म लेना या गरीब परिवार में जन्म लेना – इस पर हमारा कोई अधिकार नहीं है ।

    आज हम जिस भी परिस्थिति (गरीब) में क्यों न हों, लेकिन हमें खुद को यह बताना होगा कि आने वाला समय मेरा है और इसकी शुरुआत होती है – अब से । अमीर बनने के लिए यह परम आवश्यक है की सबसे पहले हम विचारों से अमीर बनें ।

दोस्तों,

   यदि आप इतिहास उठा कर देखोगे तो आप इस बात को जान जाओगे की दुनिया के ज्यादातर महान लोग पहले गरीब ही थे पर उन्होंने अपनी सोच और संघर्ष की बदौलत इस दुनिया में अपनी एक अलग जगह बनायी और यह सिद्ध कर दिखाया की इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं ……… कुछ भी तो नहीं ।

    यह एक कडुवा सच है, कि पैसे की कमी – एक बहुत बड़ी कमी होती है, पर यह इतनी बड़ी कमी नहीं हो सकती कि यह हमारी सभी खुशियाँ छीन सके ।

     यह भी सच है कि……

पैसा बहुत कुछ है !

पर पैसा, सब कुछ नहीं है !!

    तो आइये इस भ्रम को पूरी तरह कुचल दें – कि यदि हमारे पास पैसा नहीं है, तो हम कुछ भी नहीं पा सकते । बल्कि पूरे आत्म-विश्वास के साथ अपने आप को यह कहें की …. अमीर होना मेरा जन्म-सिद्ध अधिकार है और मुझे अमीर बनने से कोई भी नहीं रोक सकता ………मैं खुद भी नहीं ।

    अपने लिए एक सपना देखिये, और उसको हासिल करने के लिए पूरी इमानदारी से प्रयास कीजिए । आप देखेंगे कि धीरे-धीरे सभी चीजें आपके अनुकूल हो जाएंगी, यह संभव है की कुछ समय लग सकता है पर यदि आप धैर्य के साथ प्रयास करेंगे तो आप अपना प्रत्येक सपना हकीकत के रंग में रंगने में कामयाब हो जाएँगे ।

   तो भ्रम की इस स्थिति से बाहर निकलिए और जो पाना चाहते हैं उस दिशा में काम कीजिये । आप कदम तो बढाइये……

 

आपके सुखी, सम्पन्न और समृद्ध जीवन का आकांक्षी …….

आपका अपना दोस्त

Pranav Bhardwaj

 


खुला आमंत्रण


 

दोस्तो, 
        यदि, आपके पास Hindi/English या Hinglish में कोई  motivational story, article, कविता, idea, essay, real life experience या कोई जानकारी  या  कुछ  भी ऐसा जिसे पढ़कर कुछ अच्छी सीख मिले ( चाहें वो आपके अपने मन से वयक्त किये गए हों या आपने कहीं पढ़े हों ) ……………… 

        जिसे आप हमसे share करना चाहते हैं ।

        तो, आप अपना कंटेंट (content) मुझे  info@motivatemyindia.com  पर mail कर सकते हैं  आपसे अनुरोध है कि (content) के साथ अपना एक फोटो भी भेजें।

        पसंद आने पर आपका कंटेंट जल्दी ही आपकी फोटो के साथ पर आपकी अपनी websitewww.motivatemyindia.com प्रकाशित कर दिया जाएगा ।  

धन्यवाद!!!

 

TAGS
RELATED POSTS

2 Comments on पैसा…..  सब कुछ होता है क्या ???

Pranav Bhardwaj (Author) said : administrator Report 3 months ago

you can send it on my email id : bhardwaj.pranav9@gmail.com ifi feel that it is good, i will publish it on my website with your photo & your name.    otherwise you will have to create a website and then publish it.     thanks for visit

Hello sir said : Guest Report 3 months ago

Hello Sir...I have written many articles. But I have no idea .....how to published???

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked