PRANAV BHARDWAJ
Motivational Speaker / Writer

दोस्तो, मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं कुछ ऐसा करूँ, जिससे देश/समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (Creative & Positive change) आ सके। मैंने अपनी इसी सोच के तहत परम पिता परमेश्वर के आशीर्वाद से यह website बनायी है.......

Read More....

Like Us On Face Book Page
anmol-daulaat

दोस्तो,

   आज मैं आपको दुनिया की सबसे अनमोल दौलत के बारे में बताना चाहता हूँ !

वो अनमोल दौलत है……..

माँ-पिता का आशीष

दोस्तो,

   हमारे जीवन में माँ-पिता का बहुत अमूल्य योगदान होता है ! माँ-पिता के बारे में जितना कहा जाए वो कम ही होगा, एक महान कवि ने माँ-पिता की भूमिका का इतना सुन्दर चित्रण किया है, जो अपने आप में काफी कुछ कह जाता है ! आइये उनके अनन्य योगदान का  ह्रदय से वंदन करते हैं……………..

 

माँ

 

माँ संवेदना है, भावना है, एहसास है !

माँ, जीवन के फूलों में खुशबू का वास है !!

माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है !

माँ मरुश्थल में नदी या मीठा सा झरना है !!

माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है !

माँ पूजा की थाली है, मन्त्रों का जाप है !!

माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है !

माँ गालों पर पप्पी है, ममता कि धारा है !!

माँ झुलसते दिनों में कोयल कि मीठी बोली है !

माँ मेंहदी है, कुमकुम है, सिन्दूर कि रोली है !!

माँ कलम है, दवात है, स्याही है !

माँ परमात्मा की स्वयं एक गवाही है !!

माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है !

माँ फूंक से ठंडा किया हुआ कलेवा है !!

माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है !

माँ जिंदगी है, मोहल्ले में आत्मा का भवन है !!

माँ चूड़ी वाले हाथों पे मजबूत कन्धों का नाम है !

माँ काशी है, कावा है, चारों धाम है !!

माँ चिंता है, याद है, हिचकी है !

माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है !!

माँ चूल्हा, धुआँ, रोटी और हाथों का छाला है !

माँ जिंदगी की कडवाहट में अमृत का प्याला है !!

माँ पृथ्वी है, जगत है, धुरी है !

माँ बिना इस श्रृष्टि कि कल्पना अधूरी है !!

तो माँ की यह कथा अनादि है, अध्याय नहीं है !

और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है !!

माँ का महत्व जीवन में कम हो नहीं सकता !

और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता !!

तो मैं कला की पंक्तियाँ माँ के नाम करता हूँ !

मैं दुनिया की सब माताओं को प्रणाम करता हूँ !!

 

पिता

 

पिता जीवन है, संबल है, शक्ति है !

पिता श्रृष्टि के निर्माण की अभिव्यक्ति है !!

पिता अंगुली पकडे बच्चे का सहारा है !

पिता कभी कुछ खट्टा, कभी कुछ खारा है !!

पिता पालन है, पोषण है, परिवार का अनुशासन है !

पिता धौंस से चलने वाला प्रेम का प्रशासन है !!

पिता रोटी है, कपडा है, मकान है !

पिता छोटे से परिंदे का बड़ा सा आसमान है !!

पिता अप्रदर्शित अनंत प्यार है !

पिता है तो बच्चों का इंतज़ार है !!

पिता से ही बच्चों के ढेर सारे सपने हैं !

पिता है, तो बाज़ार के सब खिलौने अपने हैं !!

पिता से परिवार में प्रति पल राग है !

पिता से ही माँ की बिंदी और सुहाग है !!

पिता परमात्मा की जगत के प्रति आसक्ति है !

पिता गृहस्थ आश्रम में उच्च स्थिति की भक्ति है !!

पिता अपनी इच्छाओं का हनन और परिवार कि पूर्ति है !

पिता रक्त में दिए हुए संस्कारों की मूर्ती है !!

पिता एक जीवन को जीवन का दान है !

पिता दुनिया दिखाने का एहसान है !!

पिता सुरक्षा है, सिर पर हाथ है !

पिता नहीं तो बचपन अनाथ है !!

तो पिता से बड़ा तुम अपना नाम करो !

पिता का अपमान नहीं, उन पर अभिमान करो !!

क्योंकि माँ-बाप की कमी कोई पाट नहीं सकता !

और ईश्वर भी इनके आशीषों को काट नहीं सकता !!

विश्व में किसी भी देवता का स्थान दूजा है !

माँ-बाप की सेवा ही सबसे बड़ी पूजा है !!

विश्व में किसी भी तीर्थ की यात्राएं व्यर्थ है !

यदि बेटे के होते माँ-बाप असमर्थ हैं !!

वो खुश-नसीब हैं, माँ-बाप जिनके साथ होते हैं !

क्योंकि माँ-बाप की आशीषों के हजारों हाथ होते हैं !!

कवि ओम व्यास ओम

 

दोस्तों,

आप इस पूरी कविता को यू-tube पर भी सुन सकते हैं !

यू-tube लिंक :——-

https://www.youtube.com/watch?v=vXdolSi0DMY

 

दोस्तों

      यहाँ मेरी आपसे एक अपील है कि आप हर रोज अपने माता-पिता/दादा-दादी को अपने गले से लगायें । ये शानदार पहल माता-पिता/दादा-दादी अपनी तरफ से भी कर सकते हैं । हो सकता है कि शुरू  में ऐसा करने में थोड़ी झिझक लगे या असहज लगे पर यदि आप ऐसा रोज करेंगे तो आपको ऐसी जबरजस्त feeling आएगी जिसको शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता इसको केवल महसूस ही किया जा सकता है । आपको अत्यंत सुख, ख़ुशी व  आशीष मिलेगा और आपके सम्बन्ध ( bonding) इतने मजबूत और मधुर हो जाएँगे की आप कल्पना भी नहीं कर सकते । जिसका असर न केवल हमारी बल्कि हमारी आने वाली पीढ़ी (generation)पर भी दिखाई देगा । 

 

दोस्तों

    आपका आज बेहतर हो और आने वाला कल बेहतरीन, इन्हीं शुभकामनाओं के साथ………………

 

                                     आपका अपना दोस्त

                                        प्रणव कुमार भारद्वाज

 


खुला आमंत्रण


 

दोस्तो, 
        यदि, आपके पास Hindi/English या Hinglish में कोई  motivational story, article, कविता, idea, essay, real life experience या कोई जानकारी  या  कुछ  भी ऐसा जिसे पढ़कर कुछ अच्छी सीख मिले ( चाहें वो आपके अपने मन से वयक्त किये गए हों या आपने कहीं पढ़े हों ) ……………… 

        जिसे आप हमसे share करना चाहते हैं ।

        तो, आप अपना कंटेंट (content) मुझे  info@motivatemyindia.com  पर mail कर सकते हैं  आपसे अनुरोध है कि (content) के साथ अपना एक फोटो भी भेजें।

        पसंद आने पर आपका कंटेंट जल्दी ही आपकी फोटो के साथ पर आपकी अपनी website www.motivatemyindia.com प्रकाशित कर दिया जाएगा ।  

 

धन्यवाद!!!

 

 

TAGS
RELATED POSTS

1 Comment on Anmol – Daulat

Ajay said : Guest Report one year ago

Bahut achha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked