PRANAV BHARDWAJ
Motivational Speaker / Writer

दोस्तो, मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं कुछ ऐसा करूँ, जिससे देश/समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (Creative & Positive change) आ सके। मैंने अपनी इसी सोच के तहत परम पिता परमेश्वर के आशीर्वाद से यह website बनायी है.......

Read More....

blog_ganesha
Maan Ki BaatMoral StorySomething Special

श्री गजानन जी की स्तुति

By on December 21st, 2015

श्री गजानन जी की स्तुति

 

   देवों में सर्वप्रथम पूजनीय देव श्री गजानन प्रभु के श्री चरणों में मेरा कोटि कोटि नमन ।

  हे! विघ्नहर्ता,

                   आज मैं अपनी प्रथम रचना आपके श्री चरणों में समर्पित कर रहा हूँ । मैं इस शुभ अवसर पर आपके साथ ज्ञान की देवी माँ शारदा को भी नमन करता हूँ,  और आपसे ये प्रार्थना करता हूँ कि प्रभु आप मेरी कलम को अच्छा व श्रेष्ठ लिखने की ताकत देना, ताकि मैं अपनी रचनाओं से समाज में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन (creative  & positive change) करने के अपने सपने को साकार कर सकूँ ।

        प्रभु आपसे करबद्ध प्रार्थना है कि आपका आशीष मेरे, मेरे सभी सम्मानित पाठकों और मेरे प्यारे देशवासियों के ऊपर हमेशा बना रहे।

दोस्तों,

        जैसा कि हम सभी जानते हैं कि गजानन प्रभु समस्त देवी देवताओं में सर्व प्रथम पूजनीय हैं और ऐसा इसलिए क्यूंकि उन्होंने अपने ईश्वर अर्थात् अपने माता पिता को भगवान् से भी ऊँचा स्थान दिया । 

दोस्तों,

        गजानन जी की इस लोकप्रियता में हमारे समाज की सबसे बड़ी समस्या का समाधाम छिपा हुआ है. आज मैं उसी के बारे में आपसे अपने विचार share करना चाहता हूँ ।

दोस्तों,

         आज हमारे समाज में एकल परिवार (nuclear family) का चलन काफी तेजी से बढ़ रहा है । आज हमारा संसार मैं, मेरी पत्नि, और मेरे बच्चे इनमें ही सिमट कर रह गया है, जिसके कारण समाज में वृद्धाश्रम/ या (ऐसे घर जिनमें अकेले बेसहारा बूढ़े माँ बाप रहते हों) की संख्या दिन प्रति दिन बढती जा रही है ।

         मैं ये सोचने समझने की कोशिश करता हूँ कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि जिन माँ-बाप / दादा-दादी ने हमारे सपनों कि खातिर अपने सपनों को चूर कर दिया और हमें बेहतर से बेहतर जिंदगी दी, हमने उनको (माँ-बाप / दादा-दादी) ही बेसहारा छोड़ दिया ।

        उन लोगों (माँ-बाप / दादा-दादी) ने जैसे भी अपनी जिंदगी गुजारी पर हमें इस योग्य बनाया की हम अपनी जिंदगी को शान से जी सकें । हमें अपना सब कुछ सौंप दिया वो भी बिना कुछ इच्छा के और आज हमने ही उनको बेसहारा कर दिया । हमने नौकरी की मजबूरियां गिना के उनको अपने से दूर कर दिया ।

दोस्तों,

         समाज में आये दिन ऐसी घटनाएँ सुनने को मिलती हैं जो दिल को  बहुत चोट पंहुचाती है । मैं मानता हूँ कि सब लोग एक जैसे नहीं होते लेकिन कुछ लोगों की सोच और कुकृत्यों के कारण पूरी मानव जाति को शर्मिंदा होना पड़ता है, जो की बहुत ही चिंता की बात है ।

         पर मुझे पूरा यकीन है कि ये तस्वीर बदलेगी हम और हमारे सम्मानित पाठक इस तस्वीर को बदलेंगे । दोस्तों हमें एक बात हमेशा याद रखनी होगी कि माँ-पापा/ दादा-दादी के बारे में हमारे विचार चाहे जैसे भी हों पर वो हैं तो हमारे अपने ही । आज आप जो अच्छी जिंदगी जी रहे हैं उसमें उनका कुछ न कुछ योगदान तो है ही ।

दोस्तों

         मैं मानता हूँ कि विचारों में भिन्नता हो सकती है या कोई और परेशानी हो सकती है पर फिर भी यदि हम ये ठान लें कि चाहे कुछ भी हो जाए हम हमारे अपनों को कभी भी अपने से दूर न करेंगे तो मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि कोई न कोई अच्छा और सच्चा रास्ता जरूर निकलेगा । ऐसा करने से हम न केवल उनकी सेवा कर पाएंगे बल्कि हम हमारा आज और आने वाला कल भी  खुशहाल बना लेंगे क्योंकि हमारी आने वाली generation वो ही सीखती है जो वो देखती है

        (दोस्तों  जब गजानन प्रभु ने अपने माता पिता को उचित सम्मान देकर इतनी बड़ी उपलब्धि पा ली तो यदि हम भी हमारे अपनों को उचित मान सम्मान देंगे तो हम वो सब कुछ पा लेंगे जो हम पाना चाहते हैं क्योंकि आशीर्वाद में महान शक्ति होती है)

दोस्तों       

        यहाँ मेरी आपसे एक अपील है कि आप हर रोज अपने माता-पिता/दादा-दादी को अपने गले से लगायें । ये शानदार पहल माता-पिता/दादा-दादी अपनी तरफ से भी कर सकते हैं । हो सकता है कि शुरू  में ऐसा करने में थोड़ी झिझक लगे या असहज लगे पर यदि आप ऐसा रोज करेंगे तो आपको ऐसी जबरजस्त feeling आएगी जिसको शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता इसको केवल महसूस ही किया जा सकता है । आपको अत्यंत सुख, ख़ुशी व  आशीष मिलेगा और आपके सम्बन्ध ( bonding) इतने मजबूत और मधुर हो जाएँगे की आप कल्पना भी नहीं कर सकते । जिसका असर न केवल हमारी बल्कि हमारी आने वाली पीढ़ी (generation)पर भी दिखाई देगा । 

 

                              दोस्तों,

                                         आपका आज बेहतर हो और आने वाला कल बेहतरीन, इन्हीं शुभकामनाओं के साथ………………

 

                                                                                                                                     आपका अपना दोस्त

                                                                                                                                            प्रणव कुमार भारद्वाज

 


खुला आमंत्रण

दोस्तो, 
         यदि, आपके पास Hindi/English या Hinglish में कोई  motivational story, article,  कविता, idea, essay, real life experience या कोई जानकारी  या  कुछ  भी ऐसा जिसे पढ़कर कुछ अच्छी सीख मिले ( चाहें वो आपके अपने मन से वयक्त किये गए हों या आपने कहीं पढ़े हों ) ………………  जिसे आप हमसे share करना चाहते हैं ।

        तो, आप अपना कंटेंट (content) मुझे  info@motivatemyindia.com  पर mail कर सकते हैं  आपसे अनुरोध है कि (content) के साथ अपना एक फोटो भी भेजें।

        पसंद आने पर आपका कंटेंट जल्दी ही आपकी फोटो के साथ पर आपकी अपनी website www.motivatemyindia.com प्रकाशित कर दिया जाएगा ।  

धन्यवाद!!!

TAGS
RELATED POSTS

1 Comment on श्री गजानन जी की स्तुति

atul said : Guest Report 2 years ago

Nice post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked